Lattest Poem on Mother in Hindi | मेरी प्यारी माँ पर बेहतरीन कविताएं

Lattest Poem on Mother in Hindi | माँ पर कविताएं | Hindi Poems on Mothers 2022

 Lattest Poem on Mother in Hindi | माँ पर कविताएं | Hindi Poems on Mothers 2022

माँ एक माँ ही होती है  जो अपने बच्चों का हमेशा ख्याल रखती हैं. माँ के ममता के लिए कभी कोई  छुट्टी या सन्डे नहीं होता हैं. वह हमेशा बिना थके अपने बच्चों का ख्याल रखती हैं. एक माँ ही हैं जो अपने बच्चों की सभी बातें बिना बताएं ही समझ जाती हैं है कर उनकी जरूरत पुअरा करती है .Lattest Poem on Mother in Hindi, माँ पर कविताएं, Hindi Poems on Mothers,  lattest Poem on Mom in Hindi 2022 , Maa par Kavita.


Lattest Poem on Mother in Hindiदोस्तों दुनियां में आज तक  कोई ऐसी कलम नहीं बनी हैं, जो माँ शब्द की पूरी परिभाषा लिख दे। कहते हैं कि संसार में माँ ही भगवान का दूसरा रूप होती है। माँ की ममता का कोई मूल्य नहीं लगा सकता , वे लोग बहुत ही भाग्यशाली  जिनकी माँ हैं।

Poem on Mother in Hindi | माँ की परिभाषा

हम एक शब्द हैं तो वही  पूरी भाषा है

हम कुंठित हैं तो वह एक ही  अभिलाषा है

बस यही तो माँ की परिभाषा 

 Hindi Poems on Mothers दोस्तों अगर प्रेम की बात करें तो जीवन में हमें सबसे ज्यादा माँ से ही प्रेम मिलता हैं. माँ हमारी सलामती के लिए अपने जीवन को भी दाव पर लगा देती हैं. इस दुनिया में हमें माँ से ज्यादा कोई भी प्रेम नहीं कर सकता हैं. माँ का प्रेम निस्वार्थ होता हैं

घुटनो रेंगते रेंगते ,

कब पैरो पर खड़ा हुआ ,

तेरी ममता की छांव में ,

जाने कब बड़ा हुआ।

कला टिका दूध मलाई

आज भी सब कुछ वैसा हे ,

मैं ही मैं हर जगह

माँ प्यार ये तेरा कैसा हे ?

सीधा-साधा ,भोला भाला

मैं कितना अच्छा हु ,

कितना भी हो जाऊँ बड़ा

माँ ,में तेरा बच्चा हु।

माँ में ही तेरा बच्चे हु। ..

तू मेरी माँ है।

तू मेरी खुदा हे 


तू ही बरकत तू ही मन्नत

तू मेरी दुआ है.

तू ही हसरत तू ही जन्नत

तू मेरी खुदा हे

Hindi Poems on Mothers


तू ही हसी

तू ही ख़ुशी तू

मेरी आसमान हे



तू ही आरम्भ

तू अंत हे।

तू मेरी माँ है



माँ तो जन्नत का फूल है

प्यार करना उसका उसूल है

दुनिया की मोहब्बत फिजूल है माँ की हर दुआ काबुल है

माँ नाराज करना

इंसान तेरी भूल हे



माँ की ममता इस्वर का वरदान हे

सच पूछो तो माँ,इंसांन नहीं भगवान् हे ,

माँ की चरणों में जन्नत का हर रूप होता हे

माँ में ही ईश्वर हर सवरूप होता हे।



माँ जो हर बच्चे की दिल की चाह होती हे

मुसीबत में एक नई रह होती हे ,

जो हर किसी के करीब नहीं होती

जो हर किसी को नसीब नहीं होती।

माँ की कीमत उनसे पूछो जिनके पास माँ नहीं होती

जो हर बच्चे की जान होती हे,

जो हर रिश्ते का मान होती है

सभी का एकमात्र अरमान होती हे।

माँ

मई जब भी इस धरती पर आऊँ

बस मेरी माँ की गॉड पाऊ ,

तुझे छोड़कर माँ में कही जा पाऊँ

हर जन्म तुझे ही अपनी माँ पाऊँ



तेरा प्यार मरहम हे माँ

जो मेरे सरे जख्म भर देता हे ,

तेरे रहने से ही रोशन मेरा जहाँ हे

तूने मेरी खातिर कितने जाने कितने गमो को सहा हे

एक टिप्पणी भेजें

© Hindi me kaise. All rights reserved. Distributed by Techy Darshan Distributed by Pro Templates