जानलेवा कोरोना वायरस क्या हैं i (COVID-19) हिंदी में


                         जानलेवा  कोरोना वायरस अब india में 




चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस (Coronavirus disease - COVID-19) अब तक दुनिया के  170 से ज्यादा देशों में पहुंच गया है. इसके संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या 11,401 हो गई है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO ) ने इसे महामारी घोषित कर दिया है.
कोरोनावायरस (Coronavirus) कई वायरस (विषाणु) प्रकारों का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में रोग के कारक होते हैं। यह आरएनए वायरस होते हैं। मानवों में यह श्वास तंत्र संक्रमण के कारण होते हैं, जो अधिकांश रूप से मध्यम गहनता के लेकिन कभी-कभी जानलेवा होते हैं। गाय और pig  में यह अतिसार और मुर्गियों में यह ऊपरी श्वास तंत्र के रोग के कारण बनते हैं। इनकी रोकथाम के लिए कोई टीका (वैक्सीन) या वायररोधी (antiviral) अभी उपलब्ध नहीं है और उपचार के लिए प्राणी की अपने प्रतिरक्षा प्रणाली पर निर्भर करता है और रोगलक्षणों (जैसे कि निर्जलीकरण या डीहाइड्रेशन, ज्वर, आदि) का उपचार किया जाता है ताकि संक्रमण से लड़ते हुए शरीर की शक्ति बनी रहे।




 जानलेवा  कोरोना वायरस(COVID-19) क्या हैं in india
कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ़ जैसी समस्या हो सकती है. इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है. इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था. डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ़ इसके लक्षण हैं. अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है



            कोरोना वायरस के लक्षण क्या हैं?




इसके लक्षण फ़्लू से मिलते-जुलते हैं. संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं. यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है. इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है. कुछ मामलों में कोरोना वायरस घातक भी हो सकता है. खास तौर पर अधिक उम्र के लोग और जिन्हें पहले से अस्थमा, डायबिटीज़ और हार्ट की बीमारी है.

                           कैसे फैलता है ये वायरस


ये बीमारी सिर्फ खांसी और छींक के ज़रिए लोगों में फैल सकती है, इसका मतलब ये वायरस बेहद आसानी से किसी को भी संक्रामित कर सकता है। इसके अलावा यह लार के ज़रिए निकट संपर्क, चुंबन या फिर बर्तन शेयर करने से भी फैल सकता है। क्योंकि यह फेफड़ों को संक्रमित करता है, इसलिए खांसते वक्त मुंह से निकले वाली बूंदें भी सामने मौजूद व्यक्ति को संक्रमित कर सकती हैं।

कोरोना वायरस का इलाज




इस वक्त कोरोना वायरस का कोई इलाज नहीं है। एंटीबायोटिक दवाएं वायरस से नहीं लड़तीं, इसलिए इनका उपयोग व्यर्थ है। हालांकि, एंटीवायरल ड्रग्स काम आ सकते हैं, लेकिन नए वायरस को समझने और उसका समाधान निकालने में कई साल लग जाते हैं।
कोरोना वायरस अपना शिकार ज्यादातर 50 साल से कम उम्र के व्यक्तियों को बनाता है। कोरोना वायरस संक्रमण का पता लगाने के लिए आणविक टेस्ट और सर्जरी टेस्ट का प्रयोग किया जाता है। कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए कोई वैक्सीन नहीं है न ही इसके लिए कोई विशेष उपचार है। साबुन और पानी से अपने हाथ धोकर, अपनी आँख, नाक या मुंह ना छूकर और संक्रमित लोगों के ज्यादा करीब रहने से बचकर संक्रमण के जोखिम को घटाया जा सकता है।



                                            

                    सरकार के खास कदम 




भारत सरकार पूरी तरह से कोरोना को लेकर तैयार है । सरकार ने सभी से कहा है कि सरकार ने अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं और किसी को भी घबराने की ज़रुरत नहीं है । 
                     

सरकार ने कहा है कि स्वास्थ्य मंत्रालय की टीमें लगातार दौरे और जांच कर रही हैं और यदि की संदिग्ध पाया जा रहा है तो उसे फौरन आइसोलेट किया जा रहा है। 

इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा है कि - लोग यह न सोचें कि इसका कोई इलाज नहीं है, अगर लोग जागरुक रहेंगे और पूरी मुस्तैदी दिखाएंगे तो कोरोना से बचा जा सकता है । 

इसके अलावा केंद्रिय और राज्य सरकारों ने साथ मिलकर कोरोना से बचने के लिए कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। 

दिल्ली में सभी सरकारी और निजी स्कूल, कॉलेजों को बंद कर दिया है । इसके अलावा सिनेमाघरों पर भी ताले लगा दिए हैं । सरकार का कहना है कि कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए हर उस जगह को बैन किया जाएगा जहां लोग भारी तादाद में जमा होते हैं । 






  1. अगर छींक, खांसी हो तो मास्क पहनना अनिवार्य है ।
  2. जिन लोगों को खांसी, जुकाम, बुखार है उनसे एक निश्चित दूरी बनाकर रखें ।
  3. अगर कोई कोरोना संदिग्ध लगे तो फौरन नज़दीकी अस्पताल से संपर्क करें ।
  4. जब भी बाहर से आएं तो हाथों को किसी साबुन या हैंड वॉश से धोएं  हाथों से मुंह को न छुएं, यानि हाथों को आँख, नाक और मुंह से दूर रखें। 
  5. यदि आँखों या मुंह को छू लिया है तो फौरन किसी सैनिटाइज़र का इस्तेमाल करें । 

इस वायरस से बचने का एक ही तरीका है - सावधानी । यदि आप इन बुनियादी बातों का ध्यान रखेंगे तो कोरोना का यह वायरस आपको प्रभावित नहीं कर पाएगा । 


बड़का कोरोनावायरस बढ़ती अफवाहें



कोरोना वायरस से बनती अफवाहें दोस्तों जैसे जैसे कोरोनावायरस  अनुसार बढ़ती जा रही है 

तो कृपया करके आप अफवाहों से दूर रहें और कहां जा रहा है जैसे गर्मी पड़ने से वायरस खत्म हो जाएगा इस वजह से लोग गरम पानी पी रहे हे और गर्म पानी नहा भी रहे हे 

ऐसा सबसे किसी डॉक्टर ने या साइंटिस्ट ने नहीं कहा  वायरस मरने के लिए 60से 70 डिग्री तापमान चाहिए चाहिए यह तापमान ना राजस्थान है मैं भारत में कहीं न किसी देश 

 परंतु यह गलत है वायरस मर जाता है तो मेरा आपसे निवेदन है कि आप ऐसे अफवाहों  ज्यादा हवा ना दे

credit goes to news paper&Wikipedia


यह जानकारी समाचार पत्र और न्यूज़पेपर (news  paper) जैसे जनसत्ता (jansatta),टाइम्स ऑफ इंडिया(times of india) राजस्थान पत्रिका(rajastan patrika), दैनिक भास्कर (dainik bhaskar),वेबदुनिया (webduniya)इंडिया टीवी (indiatv.com)आज तक (aaj tak),patrika.com मीडिया टॉक (mediatalk.com,जागरण जोश(jagran josh) से जुटाई गई

मुझे मेरे दोस्त आप हमारी है पोस्ट जानलेवा कोरोना वायरस भारत में जो भी पसंद होगी और आपको भी कोई अच्छी लगी हो तो हमें कमेंट जरूर करें 

और हमें बताया कि ऐसी पोस्ट हमें लिखनी चाहिए या नहीं लिखनी चाहिए और हमारे ब्लॉग पर विश करने के लिए शुक्रिया कोरोना से डरे नहीं मजबूती से सामने खड़े हो और लड़े

जय हिंद 


Previous article
Next article

Comments system

Ads Post 3

Ads Post 4

Comment Form is loading comments...